Tuesday, March 16, 2010

बंगाराम द्वीप

एक शाम
हम टहल रहे थे
बंगाराम द्वीप पर
कदम हम कदम .
तभी प्रिया ने कहा -
सुनो जी ,
कोई हमारा पीछा
कर रहा है .
मैंने कहा -
ज़रा ठहरो
और मैं
टांग आया
नारियल के
एक ऊँचे दरख़्त पर
चाँद को !!!

-अजीत पाल सिंह दैया

3 comments:

  1. मोबाइल से मुफ़्त में बातें करें।

    http://gyanplus.tk/

    ReplyDelete
  2. कई रंगों को समेटे एक खूबसूरत भाव दर्शाती बढ़िया कविता...बधाई

    ReplyDelete