Wednesday, April 1, 2009

तुम्हारे प्यार में

लो कर दी
तुम्हारे नाम
यह सुरमई सी शाम ।
तुम्हारी आंखों में
नज़र आता है
मुझे सारा संसार ।
यूँ ही देखने दो
इनकी असीम
गहराइयों में
ढूँढने दो अपना
महकता हुआ प्यार।
तुम्हारे लबों पर
धरा है मेरा
संचित प्रेम का
उफनता ज्वार ।
तुम्हारी साँसों की महक
ज्यों .........
ज़रा !ठहरो !
जल रही है दाल
कमबख्त रसोई में ,
आज फ़िर खानी पड़ेगी
जली हुई दाल
तुम्हारे प्यार में।

----- अजीत पाल सिंह दैया

1 comment:

  1. kya karenge, shadishuda ko pyaar me jali huyi daal hi milti hai.good.

    ReplyDelete